सोमवार

धैर्य की परीक्षा - एक प्रेरक कथा

at 14:53
कई बार हम अपनी कमियों को इतना हावी कर लेते हैं कि सक्षम होते हुए भी खुद को कमजोर मान बैठते हैं, जबकि वास्तविकता अलग होती है। जीवन में आगे बढ़ने के लिए जरूरी होता है खुद को ऐसे क्षेत्र में मजबूत बनाना, जहां से कोई आपको हरा न पाए। एक महत्वपूर्ण पक्ष मेंटरशिप का भी है।आज एक प्रेरक कहानी पेश कर रहा हूँ, एक दुर्घटना में अपनी बायीं बाजू खोने के बावजूद एक 10 साल के लड़के सुरेश ने जूडो सीखने का फैसला किया। वह एक जापानी जूडो मास्टर से ट्रेनिंग लेने लगा। ट्रेनिंग अच्छी चल रही थी। पर सुरेश समझ नहीं पा रहा था कि तीन माह बाद भी उसे केवल एक मूव ही क्यों सिखायी जा रही है, उसे कुछ नया क्यों नहीं सिखाया जा रहा? एक दिन सुरेश ने पूछ ही लिया, मास्टर जी, क्या आप मुझे और मूव्स नहीं सिखाएंगे? मास्टर ने कहा, यही मूव तुम जानते हो और यही एक मूव है, जिसे तुम्हें जानने की जरूरत होगी। सुरेश को बात समझ नहीं आयी, पर मास्टर की बात मानते हुए सुरेश ने प्रशिक्षण जारी रखा। कुछ माह बाद, मास्टर पहली बार सुरेश को एक टूर्नामेंट में लेकर गया। सुरेश हैरत में था, जब उसने पहले दोनों मैच बड़ी आसानी से जीत लिए। तीसरे मैच में थोड़ी-सी परेशानी आयी, पर कुछ समय बाद विपक्षी लड़का धैर्य खो बैठा और बिना सोचे-समझे गलत मूव का इस्तेमाल करने लगा। यही कदम सुरेश की जीत का कारण बना। सुरेश फाइनल में पहुंच चुका था और हैरान था। अंतिम मैच में विपक्षी लड़का उसकी तुलना में बड़ा, मजबूत और अधिक अनुभवी था। यह सोचते हुए कि सुरेश को नुकसान हो सकता है, रेफ्री ने टाइम आउट की घोषणा कर दी। वह मैच खत्म करने की घोषणा करने वाला था, तभी मास्टर ने कहा, नहीं मैच जारी रहने दो। मैच दोबारा शुरू हो गया। तभी विपक्षी लड़का एक ग़लती कर बैठा। उसने अपना गार्ड हटा दिया। उसी समय सुरेश ने अपनी मूव का इस्तेमाल कर दिया और मैच जीत गया। वह उस सिरीज़ का चैंपियन बन गया। घर लौटते समय सुरेश मास्टर के साथ मैच में अपनी हर मूव की समीक्षा कर रहा था। अंत में सुरेश ने साहस करके पूछा, मास्टर जी मैं केवल एक मूव के बल पर यह टूर्नामेंट कैसे जीत गया? मास्टर ने कहा, दो कारण हैं, पहला तुमने जूडो में सबसे मुश्किल माने जाने वाली मूव में महारत हासिल की है। दूसरा, इस मूव से बचने के लिए विपक्षी लड़के को तुम्हारी बायीं बाजू को कब्जे में करना था, जो है ही नहीं।

Manoj jaiswal


28 टिप्‍पणियां

  1. अच्छी प्रेरक कहानी धैर्य से बड़ी कोई चीज नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  4. बढ़िया सीख देती कहानी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. सतीश चन्द्र सत्यार्थी जी,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  6. कभी कभी कुछ न होना भी लाभदायक हो जाता है .... प्रेरक कथा ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने संगीता जी,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  7. बढ़िया कथा सीख देती कहानी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शिवम् जी,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  8. कभी कभी कुछ न होना भी लाभदायक हो जाता है,बढ़िया सीख देती कहानी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने मोहित जी,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. नीलिमा जी,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  10. आज की बुलेटिन याई रे, याई रे, ब्लॉग बुलेटिन आई रे ... में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया। सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हर्षवर्धन जी, ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  11. सीख देती कहानी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Subhash Gupta जी,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  12. उत्तर
    1. Geetika जी,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  13. धैर्य से बड़ी कोई चीज नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने,पोस्ट पर टिप्पणी के लिए ह्रदय से आभार।

      हटाएं
  14. उत्तर
    1. अर्चना जी, पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं