रविवार

आइये जानते है पुराने स्मार्टफोन-टैबलेट को अपग्रेड करने के कुछ टिप्स

at 20:30
कुछ समय पहले खरीदा गया स्मार्टफोन या टैबलेट क्या चंद फीचर्स नहीं होने के कारण पुराना लगने लगा है? नए के लिए दोबारा से 10 से 30 हजार रुपये खर्च न करने के कारण क्या आप पुराने फीचर्स ही इस्तेमाल करने को विवश हैं? यदि आप यह जवाब हां में सोचते हैं, तो कैसे अपने पुराने गैजेट को नया बना सकते हैं, डिजिटल गैजेट्स इस्तेमाल करने वाले लोगों की अक्सर यह शिकायत होती है कि उनके स्मार्टफोन या टैबलेट में फलां फीचर मौजूद नहीं है। मिसाल के तौर पर आज भी बहुत सारे लोग अपने गैजेट में हिंदी (देवनागरी) टाइप करने की सुविधा मौजूद न होने से परेशान हैं। हालांकि उसी गैजेट के नए संस्करण में हिंदी यूनिकोड समर्थन मौजूद है। ऐसे लोगों को नया स्मार्टफोन या टैबलेट खरीदने की सलाह नहीं दी जा सकती, क्योंकि वे पिछले गैजेट की खरीद पर 10 से 30 हजार रुपए तक खर्च कर चुके होते हैं। सिर्फ कुछेक नई सुविधाओं के लिए ऐसा भारी-भरकम खर्च कोई क्यों करना चाहेगा? तो क्या ऐसे लोग पुराने संस्करण की सीमाओं में बंधे रहने के लिए हमेशा के लिए विवश हैं? आप जानते हैं कि किसी भी गैजेट को चलाने वाले सॉफ्टवेयर को ऑपरेटिंग सिस्टम कहते हैं। वह जितना सक्षम होगा, गैजेट उतना ही शक्तिशाली और उपयोगी होगा। क्या ऐसा नहीं हो सकता कि उनके पुराने गैजेट में ही नया ऑपरेटिंग सिस्टम इन्स्टॉल हो जाए, अपनी सभी सुविधाओं, फीचर्स, चेहरे मोहरे और क्षमताओं के साथ? यानी पुराना फोन बन जाए नया और ट्रेंडी? बिना कुछ खर्च किए! पुराने एंड्रॉयड फोन (एंड्रोयड 2.2 फ्रोयो और उससे पहले) में हिंदी का समर्थन मौजूद नहीं था। क्या उस फोन में एंड्रॉयड का ताजातरीन संस्करण (4. 2 जेली बीन) इन्स्टॉल नहीं हो सकता, जिसमें हिंदी बड़े आराम से काम करती है? ऐसा हो तो हिंदी ही क्यों, बेचारे उपयोक्ता दर्जनों नए फीचर्स इस्तेमाल कर सकेंगे। सौभाग्य से हैंडहेल्ड गैजेट्स को संचालित करने वाले गूगल एंड्रॉयड व एपल आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टमों को अपग्रेड करना संभव है।

एंड्रॉयड (टैबलेट, स्मार्टफोन के लिए)

अगर आपके स्मार्टफोन या टैबलेट में मौजूद एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम ‘ओवर द एयर’ अपग्रेड सुविधा  से  अपग्रेड नहीं हो रहा, तो उसे मैनुअली अपग्रेड कर सकते हैं।  सबसे नया एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम 4. 2 (जेली बीन) है। अपग्रेडेशन से पहले गैजेट में मौजूद सभी जरूरी डाटा का बैकअप ले लेना चाहिए। हालांकि अपग्रेड में आपका डाटा डिलीट नहीं होता, पर सावधानी बरतने में बुराई नहीं है।
1. यह देख लें कि गैजेट इंटरनेट से कनेक्टेड है।
2. ‘सेटिंग्स’ आइकन/मेन्यू पर क्लिक करें।
3. खुलने वाले मेन्यू में  ‘अबाउट  फोन’ या ‘अबाउट टैबलेट’ पर क्लिक करें।
4. यहां ‘सॉफ्टवेयर अपडेट’ या  ‘सिस्टम अपडेट’ पर क्लिक करें।
5. आपका गैजेट इंटरनेट पर मौजूद अपडेट की खोज शुरू कर देगा। अगर अपग्रेड की पुष्टि के बारे में पूछा जाए तो कर दें।
6. अपग्रेड उपलब्ध होने पर ऑपरेटिंग सिस्टम का नया संस्करण इन्स्टॉल करने के लिए आपकी मंजूरी ली जाएगी।
7. आपके हां कहने पर नया वर्जन डाउनलोड और इन्स्टॉल हो जाएगा। गैजेट बंद होकर नए रंग-रूप और ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ चालू होगा।

आई-ओएस (आई-पैड, आई-फोन के लिए)

आई-पैड और आई-फोन को एपल का आई-ओएस (ड्रर) नामक ऑपरेटिंग सिस्टम संचालित करता है। आई-ओएस 5 और उसके बाद के संस्करणों को इंटरनेट की मदद से ताजा ऑपरेटिंग सिस्टम में अपग्रेड करना संभव है। आई-ओएस का ताजातरीन संस्करण 6.1 है। अपने एपल गैजेट को नए ऑपरेटिंग सिस्टम से लैस करने के लिए यह प्रक्रिया आजमाएं।
1. सेटिंग्स पर क्लिक करें और उसके बाद ‘जनरल’ पर।
2. अब सॉफ्टवेयर अपडेट पर क्लिक करें, जिसके बाद सिस्टम आपके लिए उपलब्ध अपग्रेड की तलाश शुरू कर देगा।
3. अगर अपग्रेड उपलब्ध है तो आपको बताया जाएगा।
4. ‘डाउनलोड’ बटन दबाने पर नया संस्करण डाउनलोड होने लगेगा।
5. डाउनलोड  के बाद दिखने वाले बॉक्स में ‘इन्स्टॉल’ बटन दबाएं।
6. इन्स्टॉलेशन पूरा होने के बाद सिस्टम रीस्टार्ट होगा और लौटेगा एकदम नई-नवेली स्क्रीन के साथ।
एहतियात: बेहतर होगा कि अपने गैजेट को अपग्रेड करने की प्रक्रिया के दौरान वाई-फाई इंटरनेट कनेक्टिविटी का इस्तेमाल करें। इससे आपकी डाटा सर्विस का बिल सीमित रहेगा।

ब्लैकबेरी (स्मार्टफोन)

ब्लैकबेरी गैजेट को नए ब्लैकबेरी ऑपरेटिंग सिस्टम में अपग्रेड करने के लिए कंप्यूटर की मदद लेना बेहतर है। हालांकि आप चाहें तो स्मार्टफोन की अपनी Over The Air अपडेट सुविधा का भी प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए Home स्क्रीन पर  Options पर क्लिक करने के बाद Device और फिर   Software Updates विकल्प का प्रयोग करें। इसके लिए स्मार्टफोन में इंटरनेट कनेक्टिविटी मौजूद होनी चाहिए।
कंप्यूटर के जरिए अपग्रेड करने की प्रक्रिया इस तरह है-
1. पहले  कंप्यूटर में रिसर्च इन मोशन (ब्लैकबेरी का विकास करने वाली कंपनी) की वेबसाइट  us.blackberry.com पर जाकर नए ब्लैकबेरी ऑपरेटिंग सिस्टम की फाइल डाउनलोड करें।
2. साइट के होमपेज पर  ऊपर नेवीगेशन मेन्यू में सॉफ्टवेयर  लिंक पर क्लिक करें। खुलने वाले मेन्यू बॉक्स में Smartphone Software के नीचे नए ब्लैकबेरी ऑपरेटिंग सिस्टम की सूची दिखाई देगी। यहां पसंद के सॉफ्टवेयर पर क्लिक करें। याद रखें, Blackberry 7 या उससे नीचे के सॉफ्टवेयर वाले स्मार्टफोन में Blackberry 10 OS इन्स्टॉल नहीं होता है। दोनों पूरी तरह अलग हैं।
3.  पसंदीदा ब्लैकबेरी ऑपरेटिंग सिस्टम पर क्लिक करने के बाद जो पेज खुलेगा, उसमें Update your Blackberry Software दिखाई देगा। इसे क्लिक करें। खुलने वाले पेज में आपके मौजूदा स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम का पता लगाने की भी सुविधा है। इसी पेज पर Update on the Web नामक खंड में जाकर Check For Updates बटन दबाएं।
4. आपके स्मार्टफोन को जांचने और उसके अनुकूल एडवांस्ड ब्लैकबेरी सॉफ्टवेयर मौजूद होने पर डाउनलोड होना शुरू हो जाएगा।
5. यदि नया ऑपरेटिंग सिस्टम उपलब्ध है तो वह डाउनलोड होने लगेगा और ब्लैकबेरी स्मार्टफोन के अपग्रेड होने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। इस प्रक्रिया के दौरान स्मार्टफोन रीस्टार्ट हो सकता है।
6. प्रक्रिया खत्म होने पर आपके ब्लैकबेरी स्मार्टफोन का ऑपरेटिंग सिस्टम बदल जाएगा। हाजिर है एकदम नया और अपडेटेड संस्करण। स्मार्टफोन के किसी फीचर में आई समस्या दूर करने के लिए भी अपग्रेड सुविधा का इस्तेमाल किया जा सकता है।

 मनोज जैसवाल

21 टिप्‍पणियां

  1. बहुत अच्छी जानकारी दी आपने धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अर्चना जी,टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  2. सुन्दर प्रश्तुति थैंक्स

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sonu Pandit जी,टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  3. आपकी पोस्ट को आज के बुलेटिन चवन्नी की विदाई के दो साल .... ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ...आभार।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हर्षवर्धन जी,टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  4. बेहतरीन जानकारी शेयर की आपने धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शिवांगी जी,टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  5. एंड्रायड तभी अपग्रेड होता है यदि मोबाइल उत्‍पादक ने यह सुवि‍धा दी है. दूसरी बात, ज़रूरी नहीं कि पुराना हैंडसैड एंड्रायड नए वर्जन को स्‍पोर्ट करे. आमतौर से नए वर्जन के लि‍ए हार्डवेयर और उम्‍दा होने की ज़रूरत होती है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी बात सही है काजल जी,इसी लिए मैने लेख के आरम्भ में ही लिख दिया था 'कुछ समय पहले' ना कि 'काफी समय' पहले। कुछ समय पहले ख़रीदे गए एंड्रायड फोन में लगभग बही हार्डवेयर होता है जो नए फोन में। पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  6. ज्ञान वर्धक जानकारी थैंक्स.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढिया जानकारी बहुत काम आएगी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छी जानकारी !!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  9. उपयोगी सलाह थैंक्स

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  10. बड़े ही काम की जानकारी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पोस्ट पर टिप्पणी के लिए आभार।

      हटाएं
  11. ज्ञानवर्धक जानकारी शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं