सोमवार

दहशत के पर्याय लादेन और हिटलर दोनों की मौत 1 मई को

at 18:12
मनोज जैसवाल :इसे महज संयोग कहें या नियति दो इंसान जिन्होंने आतंक और खौफ का पर्याय कहा जाता था उन दोनों का खात्मा एक ही दिन हुआ। हम बात कर रहे हैं बीते जमाने के उस व्यक्ति की जिसने यूरोप को बुरी तरह से नेस्तेताबूत कर दिया था।

जीं हां यहां बात हो रही है जर्मनी के तानाशाह अडोल्फ हिटलर की जिसने दूसरे विश्वयुद्ध में यूरोप को बुरी तरह बर्बाद कर दिया था। उसकी मौत 1 मई 1945 को हुई थी। गौरतलब है कि दूसरे विश्वयुद्ध में जर्मनी की हार के बाद तानाशाह हिटलर ने खुदकुशी कर ली थी। हिटलर के मारे जाने की खबर 1 मई 1945 को आई थी। कहा जाता है कि हिटलर ने 30 अप्रैल 1945 को खुदकुशी कर ली थी। लेकिन उनकी मौत की तारीख को 1 मई ही माना जाता है।

जबकि मौजूदा समय में विश्व का सबसे बड़ा आतंकी ओसामा बिन लादेन की मौत भी 1 मई को हुई है। गौरतलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने घोषणा की थी कि रविवार रात अमेरिकी सेना के हमले मे ओसामा बिन लादेन मारा जा चुका है। ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से 90 किलोमीटर दूर अमेरिका सेना ने मार गिराया।

जानकारी के मुताबिक लादेन इस घर में पिछले साल अगस्त से छुपा हुआ था। 40 मिनट तक चले इस ऑपरेशन में लादेन के परिवार वालों और मुख्य सहयोगी अल जवाहिरी के मारे जाने की भी खबर है। हालांकि जवाहिरी की मौत की पुष्टि नहीं हुई है। इस ऑपरेशन में अमेरिकी सेना को जान का नुकसान नहीं पहुंचा है।

एक तरफ ओसामा की मौत की खबर पूरी दुनिया की मीडिया की सुर्खियों में हैं वहीं अभी तक पाकिस्तान के किसी भी सरकारी अधिकारी की तरफ से ओसामा की मौत के बारे में कुछ नहीं कहा गया है। ना पाकिस्तानी के प्रधानमंत्री, ना राष्ट्रपति और ना ही अन्य किसी सरकारी अधिकारी ने ओसामा की मौत के बाद कोई बयान दिया है। बात साफ है पाकिस्तान में कि ओसामा की मौत से पाकिस्तान वाकई सदमे में होगा और अब उसे अमेरिका के सामने जवाब देना वाकई भारी पड़ेगा।
manojjaiswalpbt@gmail.com

1 टिप्पणी