शुक्रवार

ऑस्ट्रेलिया को किया चित, अब जीतो पाकिस्तान

at 02:07
मनोज जैसवाल-युवराज सिंह के करोड़ों क्रिकेट प्रेमियों को झंकृत कर देने वाले करिश्मे की नाव पर सवार भारत ने गुरुवार को विश्व कप के दूसरे क्वार्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को पांच विकेट से चित करके सेमीफाइनल में पाकिस्तान से रोमांचक, दिलचस्प और कड़े मुकाबले की नींव रखी।

युवराज इस विश्व कप में तीसरी बार टीम के तारणहार बने। इस बार उनके बेमिसाल प्रदर्शन से भारत जहां 27 साल बाद विश्व चैंपियन बनने से दो मैच की दूरी पर पहुंच गया वहीं रिकी पोंटिंग का कप्तान के रूप में खिताब की हैट्रिक पूरे करने का सपना भी चकनाचूर कर दिया।

भारत को पिछले मैचों की तुलना में बेहतर गेंदबाजी करने का भी इनाम मिला क्योंकि ऑस्ट्रेलिया लीग चरण में केवल 102 रन बनाने वाले पोंटिंग की 104 रन की रणनीतिक पारी के बावजूद छह विकेट पर 260 रन ही बना पाया जो मोटेरा के सरदार पटेल स्टेडियम की सपाट पिच पर बड़ा लक्ष्य नहीं था।

सचिन तेंदुलकर के 53 और गौतम गंभीर के 50 रन के बावजूद जब भारत का स्कोर पांच विकेट पर 187 रन था तो मैच पर दोनों टीमों का पलड़ा बराबर लग रहा था। आस्ट्रेलियाई पारी में दस ओवर में 44 रन देकर दो विकेट लेने वाले युवराज हालांकि दोनों टीमों के बीच अंतर पैदा कर गये। उन्होंने 65 गेंद पर आठ चौकों की मदद से नाबाद 57 रन बनाये और सुरेश रैना :नाबाद 34: के साथ 74 रन की अटूट साझेदारी की जिससे 1983 के चैंपियन भारत 47.4 ओवर में पांच विकेट पर 261 रन बनाए।

अब निगाहें 30 मार्च को मोहाली पर टिकी रहेंगी जहां फाइनल से पहले फाइनल खेला जाएगा क्योंकि मुकाबला दो कट्टर प्रतिद्वंद्वियों भारत और पाकिस्तान के बीच होगा। पाकिस्तान ने कल पहले क्वार्टर फाइनल में वेस्टइंडीज को दस विकेट से रौंदा था। भारत 1983, 1987, 1996 और 2003 के बाद पांचवीं बार सेमीफाइनल में पहुंचा है।

यह भी संयोग है कि 1983 में भारत ने ही तब दो बार के चैंपियन वेस्टइंडीज का खिताबी अभियान रोका था जबकि अब भारतीय टीम ने ही ऑस्ट्रेलिया को बैरंग स्वदेश लौटने के लिये मजबूर किया।

घुटने की चोट से उबरकर वापसी करने वाले वीरेंद्र सहवाग :22 गेंद पर 15 रन: शुरू से ही असहज दिख रहे थे। उनके खिलाफ बेट्र ली के पहले ओवर में ही विकेट के पीछे कैच के ऑस्ट्रेलियाई रेफरल को अंपायर ने ठुकरा दिया था लेकिन दूसरे बदलाव के रूप में आये शेन वाटसन की उठती गेंद पर वह स्क्वायर लेग पर कैच दे बैठे। तब भारत का स्कोर 44 रन था।

तेंदुलकर ने शुरू से ही हावी होकर खेलने की रणनीति अपनायी। उन्होंने शान टैट के पहले ओवर में दो चौके जड़ने के बाद मिशेल जानसन और वाटसन की गेंदों को भी सीमा रेखा पार भेजा। वन डे में 18,000 रन पूरे करने वाले तेंदुलकर हालांकि मोटेरा पर शतकों का महाशतक पूरा करने से पहले ही पवेलियन लौट गये। टैट की गुडलेंग्थ गेंद उनके बल्ले को चूमकर हाडिन के दस्तानों में समा गयी। उन्होंने 68 गेंद खेली और सात चौके लगाये।

गंभीर :50 रन: और विराट कोहली : 33 गेंद पर 24 रन : ने इसके बाद एक दो रन लेकर ऑस्ट्रेलिया पर दबाव बनाने की कोशिश की। दोनों एक दो रन लेकर अच्छी तरह से पारी आगे बढ़ा रहे थे लेकिन कोहली ने डेविड हस्सी की फुलटास पर गलत शाट खेलकर अपना विकेट इनाम में दे दिया।

बेहतरीन फार्म में चल रहे युवराज ने इसी ओवर में चौका जड़कर अपना खाता खोला। उन्होंने अपने पैडल स्वीप का अच्छा नमूना पेश किया लेकिन दूसरे छोर पर गंभीर अर्धशतक पूरा करने के बाद अपनी गलती से रन आउट हो गये। तब युवराज थर्डमैन पर गेंद खेलकर अपनी जगह पर खड़े रहे जबकि गंभीर आधी पिच तक दौड़ गये और इस तरह से उनकी पारी 64 गेंद तक सीमित रही जिसमें दो चौके शामिल हैं।

युवराज ने टैट की गेंद हवा में लहराकर चार रन के लिये भेजी और फिर ब्रेट ली पर थर्ड मैन और कवर में चौका जड़कर उनका आत्मविश्वास डिगा दिया। उनके एक शाट को रोकने के प्रयास में ली चोटिल भी हो गये जिनके पावरप्ले के पहले ओवर में रैना ने पारी का पहला छक्का जड़ा। युवराज ने ली पर विजयी चौका जड़कर दर्शकों को मदहोश कर दिया।

इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई पारी में पोंटिंग ने एंकर की भूमिका निभाई। उन्होंने इस बीच ब्रैड हाडिन :53: के साथ दूसरे विकेट के लिये 70 और डेविड हस्सी :नाबाद 34: के साथ छठे विकेट के लिये 55 रन की साझेदारी भी की।

धोनी ने चेन्नई सुपरकिंग्स के अपने तुरुप के इक्के अश्विन को नयी गेंद सौंपी और उन्होंने शेन वाटसन :25: को बोल्ड करके ऑस्ट्रेलिया पर दबाव बनाकर कोच गैरी कर्स्टन की सलाह पर पूरी तरह से अमल किया। धोनी ने गेंदबाजी में लगातार बदलाव भी किये और यहां तक कि तेंदुलकर और कोहली से भी गेंदबाजी करवायी। तेंदुलकर ने वन डे में 2009 के बाद पहली बार गेंद संभाली। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन करने वाले हरभजन सिंह को नौवें ओवर ही आक्रमण पर लगाया गया। उन्होंने पहले स्पैल के छह ओवर में 18 रन दिये लेकिन आखिर के चार ओवर में 32 रन लुटा गये।

लेकिन पोंटिंग पूरी प्रतिबद्धता के साथ क्रीज पर उतरे थे। लचर फार्म के कारण मीडिया के निशाने रहे पोंटिंग ने तब एंकर की भूमिका निभाकर जानदार पारी खेली जबकि दूसरे छोर से विकेट गिर रहे थे। बीच में जब वह अपनी पारी को प्रवाह देने के मूड में दिखे तब जहीर जहीर की करिश्माई धीमी गेंद ने माइकल हस्सी का आफ स्टंप उखाड़ दिया जिससे उन्हें फिर से संभलकर खेलना पड़ा।

पोंटिंग ने युवराज के दसवें ओवर में एक्स्ट्रा कवर पर छक्का और फिर चौका जमाकर उनका गेंदबाजी विश्लेषण बिगाड़ने की कोशिश की। युवराज ने 44 रन देकर दो विकेट लिये। जहीर ने हालांकि नये बल्लेबाज कैमरून व्हाइट : 12 : को भी अधिक देर नहीं टिकने दिया और जिन्होंने वापस गेंदबाज को आसान कैच थमाया। ऑस्ट्रेलिया ने 44वें ओवर में बल्लेबाजी पावरप्ले लिया और इन पांच ओवरों में 44 रन बनाये। पोंटिंग ने इस बीच वन डे में अपना 30वां और विश्व कप में पांचवां शतक पूरा किया। वह तुरंत बाद ही अश्विन पर रिवर्स शाट लगाकर शार्ट थर्ड मैन क्षेत्र में कैच देकर पवेलियन लौटे।

manojjaiswalpbt@gmail.com

 Reed More - ClickHere

1 टिप्पणी